आर आई एन एल द्वारा दिव्यांगों को कौशल प्रशिक्षण    31-Oct-2018     Read in English


आर आई एन एल के निदेशक (कार्मिक) श्री के सी दास ने आज विशाखपट्टणम के गाजुवाका में विकलांग लोगों (दिव्यांगजन) के कौशल विकास का प्रशिक्षण देने वाले एक कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम को कंपनी के निगमित सामाजिक दायित्व के तहत तैयार किया गया है और इस कार्यक्रम का उद्देश्य संयंत्र के आसपास के गाँवों और विशाखपट्टणम के अन्य भागों के 100 ‘दिव्यांगजनों’ को रोजगारपरक प्रशिक्षण देकर सशक्त बनाना है। इस अवसर पर श्री के सी दास ने प्रशिक्षण कार्यक्रम में नियमित रूप से उपस्थित रहने और कौशल सीखने हेतु विकलांग युवाओं का आह्वान किया, ताकि उनका इस रोजगारपरक प्रशिक्षण से सशक्तीकरण हो सके। ट्रेडों में 3 महीने के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा।इस कार्यक्रम के सिलाई मशीन ऑपरेटर (25 लाभार्थी), घरेलू डेटा एंट्री ऑपरेटर (25 लाभार्थी), ब्यूटी थेरेपिस्ट (25 लाभार्थी) और हैंडसेट (मोबाइल) मरम्मत (25 लाभार्थी) व्यवसाय में तीन महीने का प्रशिक्षण दिया जाएगा और लाभार्थियों को 2000/ - रुपए प्रतिमाह छात्रवृत्ति दी जाएगी। भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा स्थापित राष्ट्रीय विकलांग वित्त और विकास निगम (NHFDC) के माध्यम से संचालित इस कौशल विकास प्रशिक्षण के सफलतापूर्वक पूरा होने पर लाभार्थियों को व्यापार के लिए उद्योग द्वारा मान्यताप्राप्त प्रमाणपत्र दिया जाएगा, जो उन्हें अच्छे रोजगार हेतु सक्षम बनाएगा।  राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड के संयंत्र के आसपास के गाँवों एवं विशाखपट्टणम के अन्य क्षेत्रों के ‘दिव्यांगजनों’ के लिए संचालित कौशल विकास कार्यक्रम का यह दूसरा वर्ष है| इस कार्यक्रम में कार्यपालक निदेशक (विधि, सामान्य प्रशासन व नगर प्रशासन) श्री पी के महापात्रा, निगमित सामाजिक दायित्व विभाग के उप महाप्रबंधक (सी एस आर) श्री जी गांधी व प्राधिकारी के साथ-साथ आंध्र प्रदेश सरकार के विकलांग कल्याण विभाग के सहायक निदेशक श्रीयुत श्रीनिवास राव तथा ‘सिटकॉन’  के अधिकारी और लाभार्थियों ने भाग लिया।