सुरक्षित कार्य संस्कृति के विकास के माध्यम से शून्य दुर्घटना लक्ष्य प्राप्त करें: फैक्टरी निदेशक श्री जी बाल किशोर    04-Mar-2019     Read in English


आंध्र प्रदेश सरकार के फैक्टरी निदेशक श्री जी बाल किशोर ने माना कि सुरक्षा मानव जीवन में सतत चलनेवाली प्रक्रिया है और उद्योगों में दुर्घटनाओं के निवारण में व्यावहारिक प्रवृत्ति महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है|  उन्होंने वर्ष 2017 एवं 2018 के दौरान शून्य घातक दुर्घटना दर की प्राप्ति हेतु आर आई एन एल-वी एस पी के प्रबंधन की सराहना की और वी एस पी समूह को बधाई दी| आज उक्कुनगरम में आर आई एन एल के सुरक्षा अभियांत्रिकी विभाग द्वारा आयोजित ‘48वें राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस’ समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में अपने संबोधन में उन्होंने यह बात कही है|  श्री बाल किशोर ने बताया कि शून्य दुर्घटना दर प्राप्त करना और उसे बनाये रखना एक बहुत बड़ी चुनौती है और उन्होंने कहा कि आर आई एन एल इसे बनाये रखने की क्षमता रखता है तथा उन्होंने सुरक्षित कार्य संस्कृति के विकास के माध्यम से देश में एक आदर्श इस्पात संयंत्र के रूप में उभरने हेतु कर्मचारियों का आह्वान किया| उन्होंने कहा कि आर आई एन एल में बेहतर प्रणालियाँ संचालित हैं और शून्य दुर्घटना दर की प्राप्ति के क्रम में बेहतर सुरक्षा पद्धतियाँ कार्यरत हैं|  उन्होंने कर्मचारियों को सुरक्षा उपस्करों के उपयोग की सलाह दी और उन्हें अपने दायित्वों के निर्वाह के समय सुरक्षा सजगता बढ़ाने का सुझाव दिया| आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने कहा कि 60-70% दुर्घटनाएँ सुरक्षा के प्रति लापरवाही के कारण होती हैं और आर आई एन एल समय समय पर प्रणालियों व पद्धतियों की लगातार समीक्षा व अनुश्रवण करता रहता है तथा सुरक्षित कार्य संस्कृति के विकास हेतु आवश्यक संशोधन करता रहता है| उन्होंने सुरक्षा को जीवन शैली बनाने हेतु कर्मचारियों का आह्वान किया तथा सुरक्षा अभियांत्रिकी विभाग को विशेष लेखापरीक्षा एवं असुरक्षित पद्धतियों के निवारण हेतु ग्रहणबोध सर्वेक्षण के आयोजन का सुझाव दिया|  उन्होंने फैक्टरी विभाग के नियमित मार्गदर्शन एवं संयंत्र में बेहतर सुरक्षा मानकों के अनुसरण में आर आई एन एल को अभिप्रेरित करते रहने तथा तद्वारा संगठन को विधिक आवश्यकताओं की पूर्ति के क्रम में सक्षम बनाने हेतु फैक्टरी विभाग को बधाई दी|  आंध्र प्रदेश सरकार के संयुक्त मुख्य फैक्टरी निरीक्षक श्री जे शिव शंकर रेड्डी ने आर आई एन एल के कर्मचारियों को सुरक्षा को अपनी आदत बनाने और संयंत्र में बेहतर सुरक्षा मानकों के अनुपालन के माध्यम से शून्य दुर्घटना की प्राप्ति का सुझाव दिया|  कार्यपालक निदेशक (संकर्म) प्रभारी श्री ओ आर रमणी ने कहा कि आर आई एन एल ने 2018 के दौरान .01 के अंतर्राष्ट्रीय मानदंड के निमित्त .09 का दुर्घटना आवृत्ति दर हासिल किया, जो एक बहुत बड़ी उपलब्धि है|  कार्यक्रम में निदेशक (वाणिज्य) श्री पी रायचौधरी, निदेशक (कार्मिक) श्री के सी दास, निदेशक (वित्त) श्री वी वी वेणुगोपाल राव, उप मुख्य फैक्टरी निरीक्षक श्री के बी एस प्रसाद, फैक्टरी निरीक्षक श्री चिन्ना राव उपस्थित थे|  इस अवसर पर अतिथियों एवं कर्मचारियों ने सुरक्षा शपथ ग्रहण किया|  कार्यपालक निदेशक गण, महाप्रबंधक गण, स्टील एक्जेक्यूटिव असोसिएशन, श्रमिक संघों, अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति संघ के प्रतिनिधियों एवं बड़ी संख्या में कर्मचारियों ने कार्यक्रम में भाग लिया|  कार्यक्रम में पहले उप महाप्रबंधक (सुरक्षा) प्रभारी श्री कृष्णय्या ने सुरक्षा निष्पादन एवं सुरक्षा प्रोत्साहन गतिविधियों का उल्लेख करते हुए एक प्रस्तुतीकरण दिया| उप महाप्रबंधक (सुरक्षा) श्री जे राजेंद्रन ने सभा का स्वागत किया|  तत्पश्चात, अतिथियों ने इस अवसर पर आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किये|