के बी आर-2 में पानी छोड़ा गया    07-Apr-2019     Read in English


आर आई एन एल-वी एस पी ने आज मौजूदा एलेरु लेफ्ट केनाल नहर से कणिति बैलेंसिंग रिजर्वायर-2 में पानी छोड़ने की नई सुविधा का औपचारिक शुभारंभ करते हुए एक और कीर्तिमान स्थापित किया।  आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ और गाजुवाका विशाखा नगरपालिका के आयुक्त श्री एम हरिनारायण, आई ए एस ने आर आई एन एल के निदेशक (वाणिज्य) श्री पी रायचौधरी, निदेशक (वित्त) श्री वी वी वेणुगोपाल राव, कार्यपालक निदेशक ‌(परियोजना) प्रभारी श्री आर नागराजन एवं श्रमिक संघों के नेताओं की उपस्थिति में रिजर्वायर में पानी छोड़ने की सुविधा का संयुक्त उद्घाटन किया। नये रिजर्वायर का निर्माण मेसर्स एल एंड टी लिमिटेड द्वारा लगभग 465 करोड़ रुपये की लागत से किया गया।  इसके लिए 2.28 किलोमीटर लंबी नहर का निर्माण किया गया।   संयंत्र के 7.3 मिलियन टन प्रतिवर्ष विस्तारण एवं आधुनिकीकरण की समग्र उत्पादन क्षमता के दृष्टिगत अतिरिक्त जल की आवश्यकता की पूर्ति हेतु इसका निर्माण किया गया।  नये रिजर्वायर से जल का नियमित पंपिंग मई-2019 से किया जाएगा।  वर्तमान में विशाखा इंडस्ट्रियल वाटर सप्लाई कंपनी (वी आई डब्ल्यू सी ओ) द्वारा मौजूदा के बी आर-1 में लगभग 60 एम जी डी पानी की आपूर्ति की जा रही है, जिससे नहर भर जाती है। वाइजाग स्टील के विस्तारण व आधुनिकीकरण से संयंत्र व टाउनशिप में जलापूर्ति बढ़ाने हेतु एक और आधुनिक जल भंडारण सुविधा की आवश्यकता उत्पन्न हुई।  तदनुसार राष्ट्रीय राजमार्ग (कूर्मन्नपालेम) के समीप लगभग 465 करोड़ रुपए की लागत से के बी आर-2 का निर्माण किया गया। के बी आर-2 की भंडारण क्षमता 12.32 घनमीटर है और रिजर्वायर चारों ओर हरियाली के साथ 24 मीटर की गहराई के एक ही कंपार्टमेंट में बनाया गया।  एक बार रिजर्वायर पूरा बन जाता है तो उक्कुनगरम पर्यटकों के लिए दर्शनीय स्थल बन जाएगा।