सचिव (इस्पात) श्री बिनय कुमार का वी एस पी भ्रमण     26-Apr-2019     Read in English


इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव (इस्पात) श्री बिनय कुमार के आर आई एन एल-विशाखपट्टणम इस्पात संयंत्र में पहली बार आगमन पर आज गर्मजोशी से उनका स्वागत किया गया।  उनके साथ इस्पात मंत्रालय की संयुक्त सचिव सुश्री रुचिका चौधरी गोविल, इस्पात मंत्रालय के निदेशक श्री नीरज अग्रवाल और इस्पात मंत्रालय के अवर सचिव श्री एस के सिंह पधारे हुए थे।  उच्चस्तरीय समूह द्वारा कोक ओवेन, धमन भट्ठी, इस्पात गलन शाला एवं रोलिंग मिल्स आदि जैसे विस्तारण व आधुनिकीकरण इकाइयों सहित प्रमुख उत्पादन इकाइयों का संदर्शन किया गया।उन्हें संयंत्र में विस्तारण एवं आधुनिकीकरण के दौरान अपनाई गई अद्यतन प्रौद्योगिकी संबंधी विवरण दिया गया। सचिव (इस्पात) के समक्ष आर आई एन एल का निगमित प्रस्तुतीकरण दिया गया, जिसके दौरान अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक ने चालू वित्तवर्ष की उपलब्धियों, लक्ष्यों एवं ध्यानकेंद्रित क्षेत्रों का उल्लेख किया। तत्पश्चात अतिथियों ने कंपनी के निष्पादन की समीक्षा की।  सचिव (इस्पात) ने 2018-19 के दौरान आर आई एन एल के सभी प्रचालन क्षेत्रों में दर्ज श्रेष्ठ निष्पादन एवं 20,844 करोड़ रुपये के उच्चतम बिक्री कारोबार की प्रशंसा की।उन्होंने कहा कि आर आई एन एल समूह ने कठिन एवं चुनौतीपूर्ण समय में हमेशा दक्षता एवं सक्षमता का परिचय दिया है। उन्होंने प्रबंधन को कार्बन उत्सर्जन तथा साथ ही उत्पादन लागत में कमी लाने पर ध्यानकेंद्रित करने और यथासंभव प्रयास करने की सलाह दी।  उन्होंने प्रतिस्पर्द्धी अधिप्राप्ति हेतु सरकारी ई-पोर्टल (जी ई एम) के अधिकतम उपयोग की भी सलाह दी। तत्पश्चात, सचिव इस्पात एवं उनकी टीम ने स्टील एक्जेक्यूटिव असोसिएशन, श्रमिक संघों, अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति,अन्य पिछड़े वर्ग के संघों तथा विप्स के प्रतिनिधियों से विचार-विमर्श किया।  उन्होंने आर आई एन एल को देश का एक पर्यावरण-मैत्री एवं सुंदर संयंत्र तथा संयंत्र के कर्मचारियों को सक्षम माना।  उन्होंने विस्तारित इकाइयों से प्रचालन बढ़ाने, उत्पादन में गति लाने हेतु निष्ठा एवं प्रतिबद्धतापूर्वक कार्य करने हेतु कर्मचारियों का आह्वान किया, जिससे इस्पात उद्योग में नई ऊँचाइयाँ हासिल की जा सकें।  कार्यक्रम में निदेशक (वाणिज्य) श्री पी रायचौधरी, निदेशक (कार्मिक) श्री के सी दास, कार्यपालक निदेशक गण एवं वरिष्ठ प्राधिकारी उपस्थित थे।