वाइजाग स्टील में विश्व पर्यावरण दिवस समारोह मनाया गया    05-Jun-2019

वाइजाग स्टील में विश्व पर्यावरण दिवस बड़े पैमाने पर मनाया गया। इस अवसर पर वाइजाग स्टील के पर्यावरण प्रबंधन विभाग द्वारा पूरे महीने में आयोजित कार्यक्रमों के समापन के उपलक्ष्य में आज संयंत्र के तकनीकी प्रशिक्षण संस्थान के प्रेक्षागृह में एक भव्य समारोह आयोजित किया गया।  आर आई एन एल-वी एस पी के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और आंध्र प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण मंडल के वरिष्ठ पर्यावरण अभियंता श्री पी रवींद्रनाथ सम्मान्य अतिथि थे।  इस अवसर पर श्री रवींद्रनाथ ने कहा कि घरेलू, उद्योग, परिवहन एवं कृषि जैसे मानवीय हस्तक्षेप प्रदूषण के प्रमुख स्रोत बने हुए हैं।   इनका एन जी टी व सी पी सी बी जैसी हमारी अद्यतन सरकारी नीतियों के माध्यम से सावधानी से नियंत्रण किया जाता है। 


और पढ़ें
सचिव (इस्पात) श्री बिनय कुमार का वी एस पी भ्रमण     26-Apr-2019

इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव (इस्पात) श्री बिनय कुमार के आर आई एन एल-विशाखपट्टणम इस्पात संयंत्र में पहली बार आगमन पर आज गर्मजोशी से उनका स्वागत किया गया।  उनके साथ इस्पात मंत्रालय की संयुक्त सचिव सुश्री रुचिका चौधरी गोविल, इस्पात मंत्रालय के निदेशक श्री नीरज अग्रवाल और इस्पात मंत्रालय के अवर सचिव श्री एस के सिंह पधारे हुए थे।  उच्चस्तरीय समूह द्वारा कोक ओवेन, धमन भट्ठी, इस्पात गलन शाला एवं रोलिंग मिल्स आदि जैसे विस्तारण व आधुनिकीकरण इकाइयों सहित प्रमुख उत्पादन इकाइयों का संदर्शन किया गया।


और पढ़ें
उक्कुनगरम में डॉ अंबेड्कर जयंती समारोह संपन्न    14-Apr-2019

विशाखपट्टणम इस्पात संयंत्र की निगमित इकाई, आर आई एन एल ने राष्ट्र के साथ मिलकर आज उक्कुनगरम में डॉ बी आर अंबेड्कर की 128 वीं जयंती मनाई|  आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने भारतरत्न डॉ बी आर अंबेड्कर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और उनके प्रति सम्मान व्यक्त किया  श्री रथ ने इस अवसर पर कहा कि डॉ अंबेड्कर बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी, एक समाज सुधारक, विधिवेत्ता, बेहतर वक्ता, विद्वान एवं विचारक थे| 


और पढ़ें
वी एस पी में इस्पात सुरक्षा दिवस संपन्न    28-Mar-2019

आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने माना कि इस्पात उद्योग एक जटिल एवं जोखिमभरा उद्योग है, अत: उन्होंने संगठन के सभी कर्मचारियों को सुरक्षित व्यवहार एवं सुरक्षित कार्य संस्कृति को अपनाने हेतु आमंत्रित किया|  आंध्र प्रदेश सरकार के विशाखपट्टणम कार्यालय के संयुक्त फैक्टरी मुख्य निरीक्षक श्री जे शिव शंकर रेड्डी ने आर आई एन एल द्वारा सुरक्षा को बढ़ावा देनेवाली गतिविधियों के संचालन संबंधी नियमित प्रयासों की सराहना की|  उन्होंने कार्यस्थल पर ही नहीं, बल्कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सुरक्षा को अपनाने की आवश्यकता पर जोर दिया|


और पढ़ें
सुरक्षित कार्य संस्कृति के विकास के माध्यम से शून्य दुर्घटना लक्ष्य प्राप्त करें: फैक्टरी निदेशक श्री जी बाल किशोर    04-Mar-2019

आंध्र प्रदेश सरकार के फैक्टरी निदेशक श्री जी बाल किशोर ने माना कि सुरक्षा मानव जीवन में सतत चलनेवाली प्रक्रिया है और उद्योगों में दुर्घटनाओं के निवारण में व्यावहारिक प्रवृत्ति महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है|  उन्होंने वर्ष 2017 एवं 2018 के दौरान शून्य घातक दुर्घटना दर की प्राप्ति हेतु आर आई एन एल-वी एस पी के प्रबंधन की सराहना की और वी एस पी समूह को बधाई दी| आज उक्कुनगरम में आर आई एन एल के सुरक्षा अभियांत्रिकी विभाग द्वारा आयोजित ‘48वें राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस’ समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में अपने संबोधन में उन्होंने यह बात कही है|  श्री बाल किशोर ने बताया कि शून्य दुर्घटना दर प्राप्त करना और उसे बनाये रखना एक बहुत बड़ी चुनौती है और उन्होंने कहा कि आर आई एन एल इसे बनाये रखने की क्षमता रखता है तथा उन्होंने सुरक्षित कार्य संस्कृति के विकास के माध्यम से देश में एक आदर्श इस्पात संयंत्र के रूप में उभरने हेतु कर्मचारियों का आह्वान किया| 


और पढ़ें
उत्तरोत्तर विकास की ओर अग्रसर होता वी एस पी: अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ    18-Feb-2019

अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ के नेतृत्व में आर आई एन एल-वी एस पी के कर्मचारियों ने उक्कुनगरम में कल रात को 37वें आर आई एन एल गठन दिवस के अवसर पर दो मिनट का मौन धारण कर पुलवामा शहीदों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की।  श्री पी के रथ ने कर्मचारियों एवं उनके परिवार के सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा कि संयंत्र ने उत्पादन, विपणन, मानव संसाधन, सामग्री प्रबंधन एवं वित्त सभी क्षेत्रों में विशेष वृद्धि दर्ज की है तथा आर आई एन एल उत्तरोत्तर विकास करते हुए अपना परचम लहरा रहा है।  


और पढ़ें
संगठनों में सत्यनिष्ठा की कमी उनके पतन का कारण बनती है: मुख्य सतर्कता आयुक्त श्री के वी चौधरी    14-Feb-2019

भारत सरकार के केंद्रीय सतर्कता आयुक्त श्री के वी चौधरी ने देश में हो रहे प्रौद्योगिकी विकास के मद्देनजर संगठनों को सत्यनिष्ठा की संस्कृति अपनाते हुए समाज में अपना स्थान बनाये रखने की आवश्यकता का उल्लेख किया।  उन्होंने आज उक्कुनगरम में आर आई एन एल-वी एस पी के बड़ी संख्या में उपस्थित अधिकारियों को संबोधित करते हुए यह बात कही।  श्री चौधरी आर आई एन एल में पहली बार आये थे और उन्होंने माना कि संगठनों में सत्यनिष्ठा की कमी उनके पतन का कारण बनती है।  अत: उन्होंने प्रबंधन की बेहतर पद्धतियों को अपनाते हुए कार्यपद्धतियों में पारदर्शिता बढ़ाने हेतु संगठनों का आह्वान किया।  उन्होंने संगठनों को सुरक्षित सजगता संकेत तंत्र विकसित करने की सलाह दी, जिससे सुधारात्मक उपायों को व्यवस्थित तरीके से अपनाया जा सके।  उन्होंने कहा कि सत्यनिष्ठा समाज में नैतिक मूल्यों को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।  उन्होंने बताया कि आयोग ने बेहतर अभिशासन एवं नैतिक मूल्यों के आदर्शों की स्थापना/प्रचार हेतु ठोस उपायकिये, जिससे समाज में बेहतर निगमित संस्कृति को अमल में लाया जा सके।  उन्होंने संगठनों को गुमनाम शिकायतों पर विचार न करने और शिकायतों के निवारण के लिए एक सतर्क संकेत तंत्र विकसित करने की सलाह दी।  


और पढ़ें
आर आई एन एल ने गौरवशाली वृद्धि दर्ज की: अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ    26-Jan-2019

आर आई एन एल, विशाखपट्टणम इस्पात संयंत्र ने आज उक्कुनगरम में देशभक्ति की भावना के साथ 70 वाँ गणतंत्र दिवस मनाया।  आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने राष्ट्र ध्वज  फहराकर नमन किया और तृष्णा ग्राउंड्स में सी आई एस एफ के जवानों, होमगार्डों, उक्कुनगरम के स्कूली बच्चों के परेड की सलामी ली।  श्री रथ ने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में उपस्थित कर्मचारियों एवं उनके परिवार के सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा कि देश की अर्थव्यवस्था का मेरुदंड माना जानेवाला इस्पात उद्योग मंदी से उबर रहा है।  2018 के दौरान भारत में ठोस इस्पात उत्पादन 105 एम टन हुआ और अब भारत विश्व दूसरा सबसे अधिक ठोस इस्पात उत्पादक देश बन गया है।  उन्होंने कहा कि भारत सरकार संरचनात्मक विकास में इस्पात के उपयोग को बढ़ावा देने हेतु पर्याप्त सहयोग दे रही है।  उन्होंने यह भी कहा कि भारत सरकार के पहलों जैसे मूलसंरचनात्मक विकास हेतु भारी पूँजीनिवेश, सभी के लिए आवास, स्मार्ट सिटी मिशन, राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण परियोजनाएँ आदि से देश में इस्पात की माँग बढ़ेगी।  श्री रथ ने कहा कि आर आई एन एल राष्ट्र निर्माण में यथासंभव सहयोग दे रहा है।  6.3 मिलियन टन प्रतिवर्ष क्षमता विस्तारण कार्य पूर्ण हो चुका है और उत्पादन में गति आई है।  उन्होंने यह भी कहा कि 7.3 मिलियन टन प्रतिवर्ष तक आधुनिकीकरण की योजना पूर्ण हो चुकी है और सभी इकाइयों का प्रचालन हो रहा है।   


और पढ़ें
वी एस पी में राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस मनाया गया     14-Dec-2018

आर आई एन एल-वी एस पी ने आज उक्कुनगरम में राष्ट्रीय ऊर्जा दिवस मनाया।  इस अवसर पर संयंत्र के प्रचालन में ऊर्जा संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाने हेतु सप्ताह भर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गये।  आर आई एन एल के निदेशक (वाणिज्य) श्री पी रायचौधरी आज समापन समारोह के मुख्य अतिथि थे।  इस अवसर पर श्री रायचौधरी ने उत्पादन लागत में कमी लाने हेतु कर्मचारियों को ऊर्जा संरक्षण के अभ्यास के साथ-साथ उसे अपनी आदत बनाने का सुझाव दिया।  उन्होंने कहा कि ऊर्जा संरक्षण इस्पात उत्पादन प्रक्रिया के प्रमुख मापदंडों में से एक है और आर आई एन एल ऊर्जा संरक्षण में महत्वपूर्ण सुधार लाते हुए ऊर्जा संरक्षण के लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु आगे बढ़ रहा है।


और पढ़ें
भ्रष्टाचार उन्मूलन में जवाबदेही और नैतिकता प्रमुख भूमिका निभाते हैं: पुलिस अधीक्षक, केंद्रीय जाँच ब्यूरो    02-Nov-2018

केंद्रीय जाँच ब्यूरो, विशाखपट्टणम के पुलिस अधीक्षक एवं ब्यूरो के अध्यक्ष श्री एस बी शंकर ने सभी को अपने दायित्वों के निर्वाह में सतर्क रहने एवं जवाबदेही बरतने की आवश्यकता पर बल दिया।  उन्होंने यह भी कहा कि इससे संगठन में भ्रष्टाचार में कमी आएगी एवं बेहतर निगमित अभिशासन में पारदर्शिता के स्तर बढ़ेंगे।  वे आज उक्कुनगरम में आर आई एन एल-वी एस पी के सतर्कता विभाग द्वारा आयोजित सतर्कता जागरूकता सप्ताह के समापन समारोह के मुख्य अतिथि थे।  उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए श्री शंकर ने कहा कि संगठन की विभिन्न प्रणालियों में सुधार लाने हेतु कर्मचारियों को बेहतर नैतिक मूल्यों को निष्ठापूर्वक अपनाना चाहिए।  उन्होंने ‘भ्रष्टाचार उन्मूलन अधिनियम 1988’ के संशोधन का विवरण दिया।  उन्होंने वैयक्तिक स्तर पर भ्रष्टाचार के उन्मूलन हेतु अध्यात्मिक नैतिकता भरी सोच को अपनाने पर जोर दिया।  उन्होंने निवारक सतर्कता के विभिन्न दृष्टांतों का उल्लेख किया एवं कहा कि सतर्कता एक अनवरत प्रक्रिया है, जिसे समाज में भ्रष्टाचार के उन्मूलन हेतु नियमित रूप से अपनाया जाना चाहिए।  इस अवसर पर आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने कहा कि सतर्कता ऐसा महत्वपूर्ण उपकरण है, जिससे नैतिक मूल्यों में सुधार एवं अखंडता को बनाये रखने में सहयोग मिलता है और संगठन में पारदर्शिता के स्तर बढ़ाने हेतु इसका उपयोग किया जाना चाहिए।


और पढ़ें
आर आई एन एल-वी एस पी सतर्कता जागरूकता सप्ताह आरंभ    29-Oct-2018

भ्रष्टाचार रोकने और पारदर्शी तरीके से निगमित अभिशासन बढ़ाने के उद्देश्य से आर आई एन एल के कर्मचारियों को जागरूक करने हेतु संगठन में सतर्कता जागरूकता सप्ताह मनाया जा रहा है।  मुख्य सतर्कता आयोग ने इस वर्ष ‘भ्रष्टाचार मिटाओ-नया भारत बनाओ’ को विषयवस्तु बनाया है। सतर्कता जागरूकता सप्ताह के अवसर पर आर आई एन एल के निदेशक मंडल के साथ आज अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने सत्यनिष्ठा का शपथ लिया।


और पढ़ें
उक्कुनगरम में श्री टी अमृत राव की जयंती मनाई गई    21-Oct-2018

उकुनगरम में 21 अक्टूबर को श्री टी अमृत राव की 98 वीं जयंती मनाई गई। इस अवसर पर आर आई एन एल के निदेशक (परियोजना) श्री पी सी महापात्रा ने श्री अमृत राव की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की।


और पढ़ें
स्लैग निपटान - विषय पर कार्यशाला का आयोजन    23-Mar-2018

आर आई एन एल-वाइजाग स्टील ने दि इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मेटल्स, विशाखपट्टणम चैप्टर के साथ मिलकर उक्कुनगरम के एम पी हाल में ‘शून्य अपशिष्ट लक्ष्य प्राप्ति के क्रम में उत्सर्जित स्लैग व अन्य अपशिष्टों के निपटान’ विषय पर एक-दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया| आर आई एन एल के निदेशक (प्रचालन) एवं आई आई एम, विशाखपट्टणम चैप्टर के अध्यक्ष श्री पी के रथ ने कार्यशाला का उद्घाटन किया एवं प्रतिभागियों को शून्य अपशिष्ट के लक्ष्य प्राप्ति के क्रम में अपशिष्ट उत्सर्जन में कमी लाने की सांविधिक जरूरतों एवं अपशिष्टों के शत-प्रतिशत उपयोग के महत्व को समझाया|


और पढ़ें