चिमनी प्रज्वलित करके कोक ओवेन बैटरी-5 का प्रवर्तन    05-Jul-2019

आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने आज आर आई एन एल-वी एस पी के निदेशक गण एवं वरिष्ठ प्राधिकारियों की सम्मान्य उपस्थिति में नई कोक ओवेन बैटरी-5 की चिमनी को प्रज्वलित करके उसकी प्रवर्तन गतिविधियों का शुभारंभ किया। श्री रथ ने अपने संबोधन में बैटरी परियोजना से जुड़े सभी लोगों को बधाई दी और निर्धारित समय के भीतर बैटरी के प्रवर्तन की आवश्यकता का उल्लेख किया तथा सुरक्षा मानकों के सख्ती से अनुपालन के माध्यम से कार्य पूरा करने हेतु यथासंभव प्रयास करने का सुझाव दिया।  इस अवसर पर निदेशक (वाणिज्य) श्री पी रायचौधरी, निदेशक (कार्मिक) श्री के सी दास, निदेशक (वित्त) श्री वी वी वेणुगोपाल राव, कार्यपालक निदेशक (परियोजना) प्रभारी श्री आर नागराजन एवं वरिष्ठ प्राधिकारी उपस्थित थे।  चिमनी में अपेक्षित ड्राफ्ट की प्राप्ति के पश्चात ही बैटरी ऊष्मन की प्रक्रिया शुरु होगी, जिसके लिए लगभग 10 से 15 दिन लगेंगे।


और पढ़ें
फनि तूफान : ओडिशा मुख्यमंत्री राहत निधि में वाइजाग स्टील की ओर से 140 लाख रुपये का योगदान    04-Jun-2019

ओडिशा में आये फनि तूफान से पीड़ित लोगों को राहत पहुँचाने की दृष्टि से ओड़िशा के माननीय मुख्यमंत्री श्री नवीन पट्नायक द्वारा आंध्र प्रदेश के प्रमुख निगमित क्षेत्र एवं ओड़िशा में स्थित उनकी सहायक इकाई ‘बर्ड ग्रूप ऑफ कंपनीज’ से किये गये अनुरोध को विशाखपट्टणम इस्पात संयंत्र की निगमित इकाई (वाइजाग स्टील के नाम से ख्यातिप्राप्त) आर आई एन एल ने सकारात्मकता से स्वीकार किया। 


और पढ़ें
के बी आर-2 में पानी छोड़ा गया    07-Apr-2019

आर आई एन एल-वी एस पी ने आज मौजूदा एलेरु लेफ्ट केनाल नहर से कणिति बैलेंसिंग रिजर्वायर-2 में पानी छोड़ने की नई सुविधा का औपचारिक शुभारंभ करते हुए एक और कीर्तिमान स्थापित किया।  आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ और गाजुवाका विशाखा नगरपालिका के आयुक्त श्री एम हरिनारायण, आई ए एस ने आर आई एन एल के निदेशक (वाणिज्य) श्री पी रायचौधरी, निदेशक (वित्त) श्री वी वी वेणुगोपाल राव, कार्यपालक निदेशक ‌(परियोजना) प्रभारी श्री आर नागराजन एवं श्रमिक संघों के नेताओं की उपस्थिति में रिजर्वायर में पानी छोड़ने की सुविधा का संयुक्त उद्घाटन किया।


और पढ़ें
आर आई एन एल-वी एस पी ने रिकार्ड 20,844 करोड़ रुपए का कारोबार किया : अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ    01-Apr-2019

आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने कहा कि कंपनी ने हाल ही में समाप्त वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि के 16,625 करोड़ रुपए की तुलना में 25% प्रभावी वृद्धि सहित 20,844 करोड़ रुपए के उच्चतम बिक्री कारोबार का श्रेष्ठ निष्पादन दर्ज किया।  उन्होंने प्रचालन के सभी क्षेत्रों में उत्कृष्ट निष्पादन हेतु आर आई एन एल-वी एस पी समूह को बधाई दी।  आज उक्कुनगरम में कंपनी के वरिष्ठ प्राधिकारियों को संबोधित करते हुए श्री रथ ने कंपनी के निष्पादन में समग्र विकास का उल्लेख किया और बताया कि आर आई एन एल ने क्रमश: 12%, 11% एवं 11% वृद्धि के साथ 5.77 मिलियन टन तप्त धातु, 5.52 मिलियन टन द्रव इस्पात एवं 5 मिलियन टन बिक्रीयोग्य इस्पात का उत्पादन किया।  कंपनी ने कुल विद्युत उत्पादन में 13% वृद्धि एवं श्रम उत्पादकता में 8% वृद्धि भी हासिल की।  श्री रथ ने कहा कि वर्ष के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 400% वृद्धि के साथ 1700 का सकल  मार्जिन हासिल किया गया।  उन्होंने सभी धमन भट्ठियों में चूर्णित कोयला प्रेषण (पी सी आई) बढ़ाते हुए उत्पादन लागत में कमी लाने हेतु कर्मचारियों का आह्वान किया।


और पढ़ें
आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ द्वारा एन आर - एच आर कोक उत्पादन प्रौद्योगिकी की वैश्विक स्थिति पर संगोष्ठी का उद्घाटन    08-Feb-2019

आर आई एन एल-वी एस पी के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने आज उक्कुनगरम में ‘एन आर-एच आर कोक उत्पादन प्रौद्योगिकी की वैश्विक स्थिति’ पर दो-दिवसीय अखिल भारतीय संगोष्ठी का उद्घाटन किया।   संगोष्ठी आर आई एन एल – वी एस पी एवं विशाखपट्टणम के आई आई एम चैप्टर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित की गई है।  उद्घाटन समारोह के अवसर पर श्री रथ ने अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्रीय इस्पात नीति 2017 के अनुसार, भारत में 2030 तक 300 मिलियन टन ठोस इस्पात उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है और इस लक्ष्य की प्राप्ति हेतु मौजूदा, परिकल्पित इकाइयों एवं कोक के आयात के अलावा 30 एम टन कोक के उत्पादन की आवश्यकता है।  उन्होंने नई कोक ओवन बैटरियों की स्थापना के समय उपलब्ध संसाधनों के इष्टतमीकरण एवं लागत प्रभावी प्रौद्योगिकियों को तलाशने की आवश्यकता पर बल दिया।  श्री रथ ने कहा कि धात्विक कोक के उत्पादन में मौजूदा पद्धतियों में से एक पद्धति नॉन-रिकवरी/हीट रिकवरी (एन आर-एच आर) ओवेन हैं, जो वर्तमान में चीन, भारत, अमेरीका, ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया और कोलंबिया में स्थापित हैं।  उन्होंने कहा कि उप-उत्पादों अथवा पारंपरिक ओवेन की तुलना में एनआर-एचआर ओवेन से कम पूंजी लागत, उच्च ऊर्जा-दक्षता, बेहतर पर्यावरण संरक्षण, कोकिंग क्षमता में वृद्धि और इस्पात उद्योग में कम प्रदूषण जैसे आकर्षक फायदे हैं।  


और पढ़ें
आर आई एन एल ने 2018 में कई ऊँचाइयाँ हासिल कीं: अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ    01-Jan-2019

आर आई एन एल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक श्री पी के रथ ने आज नव वर्ष 2019 के अवसर पर आर आई एन एल-वी एस पी के वरिष्ठ अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि वाइजाग स्टील ने वर्ष 2018 के दौरान अपने प्रचालनों में लगभग 20% वृद्धि दर्ज करते हुए महत्वपूर्ण निष्पादन की कई ऊँचाइयाँ हासिल कीं।  श्री रथ ने यह भी माना कि अत्यंत मूल्यवर्धित इस्पात उत्पादन में उल्लेखनीय सफलता, नई मिलों के क्षमता उपयोग में वृद्धि, विद्युत उत्पादन एवं कच्चेमाल के प्रहस्तन में सुधार दर्ज किये गये।  उन्होंने कर्मचारियों को तप्तधातु उत्पादन की लागत कम करने के क्रम में धमन भट्ठियों में चूर्णित कोयला प्रेषण (पी सी आई) बढ़ाने हेतु मुख्यत: ध्यानकेंद्रित करने का सुझाव दिया एवं उन्होंने यह भी कहा कि 100 किलोग्राम चूर्णित कोयला प्रेषण/टन तप्त धातुसे 1500 करोड़ रुपये प्रति वर्ष की बचत होती है।  


और पढ़ें